विंटर स्किनकेयर: ड्राईनेस को रोकने के 7 आयुर्वेदिक टिप्स
For Advertise : +91-805-464-9812

विंटर स्किनकेयर: ड्राईनेस को रोकने के 7 आयुर्वेदिक टिप्स


image-13-11-2019-1573628578.jpg

सर्दी लगभग शुरू हो चुकी है. हममें से अधिकांश लोग ठंड के मौसम का बेसब्री से इंतजार करते हैं, लेकिन यह आपकी त्वचा के लिए विशेष रूप से अच्छा समय नहीं होता. तापमान और आर्द्रता में गिरावट विभिन्न स्किन प्रोब्लम्स को जन्म दे सकती है. सर्दियों में सबसे आम त्वचा समस्याओं में से एक है, अत्यधिक सूखापन और फटे होंठ. ऐसे समय में, आपकी त्वचा की देखभाल और सर्दियों में इसे सुंदर और चमकदार बनाए रखने के लिए आप प्राकृतिक रूप से आयुर्वेदिक उपचारों का सहारा ले सकते हैं. आयुर्वेद आपके स्वास्थ्य और सौंदर्य को लाभ पहुंचाने के लिए प्राकृतिक अवयवों का उपयोग करने का प्राचीन खजाना है.

आयुर्वेदिक योगों में प्रयुक्त सामग्री में मुख्य रूप से पौधे, जड़ी-बूटियां और प्राकृतिक खुशबू शामिल हैं. ये सूत्र या उपाय, हमारे पूर्वजों द्वारा विचारपूर्वक समय के साथ परीक्षण किए गए अवयवों के अद्भुत लाभ देते हैं.

सर्दियों में, अगर स्किन की सही देखभाल नहीं की जाती, तो सर्द हवा आपकी त्वचा को काफी नुकसान पहुंचा सकती है. यह इसकी नमी और चमक को खत्‍म कर सकती है, जिससे यह सुस्त और डिहाइड्रेटेड हो सकती है. आयुर्वेद के अनुसार, पृथ्वी दक्षिणायन चरण में है, जो ब्रह्मांड का स्त्री चरण होता है, यह पुनर्जनन का मौसम है. यह ग्रहणशीलता का समय है, प्यासे पौधों और प्राणियों के जीवन से शक्ति जाने लगती हैं, जो त्वचा के लिए सबसे जरूरी है.

इन सर्दियों में अपनी त्वचा की देखभाल करें इन आयुर्वेदिक स्किनकेयर टिप्स से
सर्दी का मौसम साल का वह समय होता है जब हर किसी को अपनी स्किनकेयर पर पूरा ध्यान देना होता है, क्योंकि इस दौरान बॉडी ड्राई होती है और उसमें हाइड्रेशन की कमी होती है. सर्दियों में शरीर को ड्राईनेस से बचने के लिए व्यक्ति को बहुत सावधानी बरतनी चाहिए. यहां कुछ सर्दियों के स्किनकेयर टिप्स दिए गए हैं, जो आपकी त्वचा की देखभाल करने में आपकी मदद कर सकते हैं:

1. बॉडी लोशन के लिए नेचुरल बटर अपनाएं
ऐसे प्रोडक्‍ट्स का इस्‍तेमाल करें, जो नेचुरल हों, एक्‍स्‍ट्रा पौष्टिक हों, क्योंकि वे शरीर को तेजी से नमी प्रदान करते हैं. नेचुरल बटर जैसे शीया, कोकम, नारियल और बादाम मक्खन जैसे अवयवों को अपनाएं. शहद, गुलाब, ग्लिसरीन, बादाम, खुबानी, जोजोबा और तिल जैसे नेचुरल ऑयल भी फायदेमंद होते हैं.

2. बाथ या शॉवर ऑयल्स का इस्तेमाल करें
आयुर्वेद खोई हुए नमी को फिर से पाने और चमक देने के लिए स्नान से पहले अभ्यंग की सलाह देता है. सेल्‍फ-ऑयल की मालिश पूरे दिन त्वचा को कोमल बनाए रखेगी. इस ड्राई मौसम के दौरान, यह भी सिफारिश की जाती है कि आप सुबह नहाने से पहले या तो तिल या नारियल के तेल का उपयोग करें. शरीर को तौलिए से साफ करते समय होने वाली ड्राईनेस से निपटने के लिए नेचुरल शावर ऑयल का इस्‍तमाल करें.

3. फुट मसाज ऑयल्स का इस्तेमाल करें
पदा अभ्यंग द्वारा अपने पैरों की देखभाल करें. नियमित मालिश शरीर की सहज ऊर्जा या प्राण को पुनर्स्थापित और संतुलित करती है. रात में सोने से पहले पैरों के तलवों पर तेल रगड़ने का सरल कार्य आयुर्वेद में अत्यधिक महत्‍वपूर्ण बताया गया है. यह मालिश के दौरान उपयोग किए जाने वाले तेलों के गहरे अवशोषण में मदद करेगा. इससे पैर कोमल और पोषित होते हैं.

4. नियमित रूप से सिर की तेल मालिश करें
शिरो अभ्यंग या सिर की मालिश सर्दियों में सरल और अत्यधिक आवश्यक है. चरक संहिता, जो आयुर्वेद पर संस्कृत पाठ है, में कहा गया है, जो नियमित रूप से अपने सिर पर तेल लगाता है, वह सिर दर्द, गंजापन या बालों के सफ़ेद होने से पीड़ित नहीं होता है. इतना ही नहीं इससे बाल काले, लंबे और घने होते हैं. इससे सिर के इंद्रिय अंग प्रभावी रूप से काम करते हैं. चेहरे की त्वचा चमक उठती है.

5. स्किन रिन्यूइंग नाइट सीरम लगाएं
रातभर स्किन को फिर से जीवंत करने के लिए एमोलिएंट बटर के साथ नाइट सीरम लगाएं. गुलाब जल, ग्लिसरीन और नींबू के रस के मिश्रण का उपयोग करना ड्राई स्किन के लिए सबसे अच्छा पुराना उपचार है. कैमिकल फ्री लोशन के साथ नहाने के बाद अपनी स्किन को मॉइस्चराइज करें, जो एक्‍स्‍ट्रा हाइड्रेटिंग हैं, और रोमछिद्रों को अवरुद्ध नहीं करते हैं.

6. मॉइस्चराइजिंग लिप बाम का उपयोग करें
बढ़ी हुई ठंड आमतौर पर फटे होंठों देती है. नॉन-शाइनी और अत्यधिक नमीयुक्त लिप बाम के साथ अपने होंठों को सूखने से बचाएं.

7. अपने खाने पर रखें नजर
आपकी डाइट आपकी स्किन के बारे में सबकुछ बताती है, इसलिए अपनी स्किन को ड्राई होने से बचाने के लिए आयुर्वेद के अनुसार भोजन करें. इस मौसम में, शरीर को अंदर से गर्म रखने के लिए आयुर्वेद गर्म और नम भोजन खाने की सलाह देता है. गर्म सूप, वार्मिंग मसाले जैसे हल्दी, अदरक, दालचीनी, आदि, गर्म अनाज या दलिया और बीज लें. फ़िज़ी ड्रिंक्‍स, कैफीन और कोल्‍ड डिशेज से बचें. इम्यूनिटी बढ़ाने वाली तुलसी, अदरक, दालचीनी, अजवाईन, हल्दी और शहद से बनी चाय पिएं.

अपनी डाइट में हेल्‍दी फैट और ओमेगा 3 से भरपूर खाद्य पदार्थों जैसे हरी पत्तेदार सब्जियां, नट्स और शुद्ध गाय का घी शामिल करें. च्यवनप्राश का सेवन सर्दियों में करने पर अतिरिक्त लाभ मिलता है, क्योंकि यह एक इम्‍यूनिटी बूस्टर है. आंवला जैसे विटामिन सी से भरपूर फल लें.

इन टिप्‍स के अलावा, नियमित रूप से सक्रिय रहना और व्यायाम करना भी सुनिश्चित करें. शरीर की अकड़न से बचने और ब्‍लड सर्कुलेशन में सुधार के लिए योगिक स्ट्रेचिंग आसनों का अभ्यास करें. प्राणायाम फेफड़ों को हेल्‍दी रखने में मदद कर सकता है और स्किन को फ्रेश ऑक्सीजन दे सकता है.

What's Your Reaction on this NEWS ?

CRICKET | SPORTS